Bhartiya Parmapara

त्योहार

नवरात्रि के पां...

नवरात्रि के पांचवे दिन देवी के स्कंदमाता स्वरूप की पूजा की जाती है, स्कंदमाता हिमायल की पुत्री पार्वती ही हैं। इन्हें गौरी भी कहा जाता है। कुमार कार्तिकेय को भगवान स्कंद के नाम से जाना जाता है

नवरात्रि के पहल...

नवरात्रि के त्योहार की 9 दिनों तक बड़ी धूम धाम रहती है, इन नौ दिनों में माँ दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों की उपासना की जाती है। नवरात्रि के प्रथम दिन माँ शैलपुत्री की पूजा होती है।

नवरात्रि के चौथ...

नवरात्रि के चौथे दिन शक्ति की देवी माँ दुर्गा के चौथे स्‍वरूप माता कूष्‍माँडा की पूजा की जाती है। हिन्‍दू मान्‍यताओं के अनुसार जब इस संसार में सिर्फ अंधकार था तब देवी कूष्‍माँडा ने अपने ईश्‍वरीय हास्‍य से ब्रह्माँड की रचना की थी।

हरतालिका व्रत क...

यह व्रत भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को हस्त नक्षत्र के दिन आता है। इस दिन सुहागने और कुंवारी लड़किया गौरी-शंकर की पूजा करती हैं। मान्यता है कि हरतालिका तीज का व्रत सुहागिन महिलाएं अपने पति की दीर्घायु के लिए निर्जला व्रत रखती हैं और कुंवारी लड़कियों को मनचाहे वर की प्राप्ति के लिए व्रत रखती है।

भ्रमणीय स्थल

Meaning, Origin...

There are 33 letters in this mantra, according to which Maharishi Vashistha is considered to be a symbol of 33 koti Gods and Goddesses. Of these, 8 are Vasu, 11 Rudra, 12 Aditya, 1 Prajapati and 1 Hexakara. The entire powers of these thirty three deities de...

Which god to wo...

According to the Hindu religion, 33 crore gods and goddesses are worshiped. These Gods and Goddesses have assigned the task of fulfilling different desires of human beings. But worshiping special deities on seven days of the week fulfills worldly desires. W...

नवीनतम ब्लॉग

सभी को देखें

साहित्यिक एवं आध्यात्मिक संग्रह

;
©2020, सभी अधिकार भारतीय परम्परा द्वारा आरक्षित हैं। MX Creativity के द्वारा संचालित है |